टाइटैनिक के मलबे को निकालने की तैयारी, अमेरिकी सरकार कर रही है कड़ा विरोध

आरएमएस टाइटैनिक इंक (आरएमएसटी) कंपनी ने अगले साल टाइटैनिक के मलबे को निकालने की तैयारी कर रखी है। लेकिन, अमेरिकी सरकार आरएमएसटी के टाइटैनिक के मलबे निकालने के अभियान का विरोध कर रही है।

Times Hindi
टाइटैनिक के मलबे को निकालने की तैयारी, अमेरिकी सरकार कर रही है कड़ा विरोध
टाइटैनिक के मलबे को निकालने की तैयारी, अमेरिकी सरकार कर रही है कड़ा विरोध
हाइलाइट्स
  • अमेरिकी सरकार टाइटैनिक के मलबे को निकालने के खिलाफ हस्तक्षेप कर रही है।
  • टाइटैनिक के मलबे की गहराई समुद्र की सतह से 12,500 फीट की है।
  • टाइटैनिक पनडुब्बी हादसे के बाद उठे सवाल कि कौन जहाज के मलबे को कब्रगाह के रूप में मान्यता देता है।

जॉर्जिया स्थित आरएमएस टाइटैनिक इंक (आरएमएसटी) कंपनी ने अगले साल टाइटैनिक के मलबे को निकालने की तैयारी कर रखी है, लेकिन अमेरिकी सरकार इस अभियान का कड़ा विरोध कर रही है और इसे रोकने के लिए हस्तक्षेप कर रही है। इस समय, टाइटैनिक पनडुब्बी हादसे के बाद उठे सवाल कि टाइटैनिक के मलबे को कौन नियंत्रित करता है, वह एक महत्वपूर्ण मुद्दा बन गया है।

टाइटैनिक, वह नाम जो दुनियाभर में एक अद्वितीय मिथक बन चुका है। इस महाकवि जहाज ने अपने पहले ही यात्रे पर अपनी शरुआती उड़ान के दौरान एक भयानक आपदा में समाप्त हो गई थी, जिसमें हजारों लोगों की जानें गईं। यह एक हादसा था जो इतिहास की पन्डुब्बी हादसों में से एक के रूप में याद किया जाता है, और अब तक विश्व के ज्यादांश के लिए अद्वितीय है।

अमेरिकी सरकार का विरोध

टाइटैनिक के मलबे के बारे में हो रहे विवाद में एक नई मोड़ आया है, जो अमेरिकी सरकार और जॉर्जिया में स्थित आरएमएस टाइटैनिक इंक (आरएमएसटी) कंपनी के बीच तनाव बढ़ा दिया है। आरएमएसटी कंपनी अगले साल टाइटैनिक के मलबे को निकालने की योजना बना रही है, जिसके खिलाफ अमेरिकी सरकार खड़ी हो गई है और इसे रोकने के लिए कड़ा विरोध कर रही है।

टाइटैनिक के मलबे का विवाद

वर्तमान में, आरएमएसटी कंपनी को टाइटैनिक के मलबे का पोषण करने का अधिकार है, जिसे वह प्रदर्शित करती है और बचाने की योजना बना रही है। इस योजना के तहत, वे टाइटैनिक के मलबे को उठाकर विश्वभर में प्रदर्शित करने की कवायद में हैं, जिसमें चांदी के बर्तन से लेकर टाइटैनिक के अनमोल आभूषणों को शामिल किया गया है।

इसके बावजूद, अमेरिकी सरकार टाइटैनिक के मलबे के मामले में अदालती कार्रवाई कर रही है, और यह संभावना है कि अमेरिका आरएमएसटी के योजना पर रोक लगा सकता है।

टाइटैनिक के मलबे की गहराई

टाइटैनिक के मलबे की गहराई समुद्र की सतह से 12,500 फीट की है, और इसे अमेरिकी सरकार के अधिकारी नियमित करने की कोशिश कर रहे हैं। इसके बावजूद, कुछ सालों में टाइटैनिक के हजारों अवशेषों को समुद्र से रिकवर किया गया है, जिसमें विभिन्न आइटम्स और धरोहर शामिल हैं।

टाइटैनिक के मलबे के विवाद ने अमेरिकी सरकार और आरएमएसटी कंपनी के बीच तनाव बढ़ा दिया है, जिसमें अमेरिका टाइटैनिक के मलबे को कानूनी रूप से नियंत्रित करने का दावा कर रही है। यह विवाद विश्वभर के लोगों के लिए एक रोचक और महत्वपूर्ण विषय है, जो टाइटैनिक के इतिहासिक मलबे के संरक्षण के प्रति उनकी जागरूकता को बढ़ावा देने के साथ-साथ उसके महत्व को भी समझते हैं।

Share This Article